प्रधान मन्त्री कृषि सिंचाई योजना (वाटरशेड विकास घटक) (डबल्यु डी सी - पी एम के एस वाई)

समेकित वाटरशेड प्रबंधन कार्यक्रम (आईडब्लनयूएमपी) तत्काकलीन सूखा प्रवण क्षेत्र कार्यक्रम (डीपीएपी) मरुभूमि विकास कार्यक्रम (डीपीएपी) और भूमि संसाधन विभाग के समेकित बंजरभूमि विकास कार्यक्रम (आईडब्यूा डीपी) का संशोधित कार्यक्रम है। यह संयोजन संसाधनों, स्थायी निष्कर्ष और एकीकृत योजना के अधिकतम उपयोग के लिए है। यह योजना 2009-10 के दौरान शुरू की गई थी। कार्यक्रम को वाटरशेड विकास परियोजना 2008 के सामान्य दिशा-निर्देशों के अनुसार कार्यान्‍वित किया जा रहा है। आईडब्यूएमपी का मुख्य उद्देश्य मृदा, वनस्पति और जल जैसे अवक्रमित प्राकृतिक संसाधनों का इस्तेमाल, संरक्षण और विकास करके पारिस्थितिकी संतुलन को बहाल करना है। इसके परिणामस्वरूप मृदा ह्रास पर रोक लगती है, प्राकृतिक वनस्पति का पुनर्सृजन होता है, वर्षाजल एकत्रीकरण होता है तथा भूजल स्तर का संभरण होता है। इससे बहु-फसलें लगाने और विविध कृषि आधारित कार्यकलाप चलाने में मदद मिलती है, जिससे वाटरशेड क्षेत्र में रह रहे लोगों को स्थायी आजीविका उपलब्ध् कराने में सहायता मिलती है।

आईडब्यूएमपी की मुख्य विशेषताएं निम्न् प्रकार हैं:

(i) राज्य स्तर पर बहु-विषयक विशेषज्ञों सहित समर्पित संस्था‍नों की स्थापना करना - राज्यस्तरीय नोडल एजेंसी (एसएलएनए), जिला स्तर-वाटरशेड प्रकोष्ठस-सह-डॉटा सेंटर (डब्ल-यूसीडीसी), परियोजना स्तर - परियोजना कार्यान्वयन एजेंस (पीआईए) और ग्राम स्तर - वाटरशेड समिति (डब्यूंरीसी)।

(ii) परियोजनाओं का चयन और तैयार करने में सामूहिक दृष्टिजकोण: परियोजना का औसत आकार-लगभग 5,000 हेक्टेयर।

(iii) मैदानी क्षेत्रों में लागत मानदण्डों को 6,000 रुपए प्रति हेक्‍टेयर से बढ़ाकर 12,000 रुपए/हेक्टेयर किया गया है; दुर्गम/पहाड़ी क्षेत्रों में यह 15,000 रुपए/हेक्टेयर है।

(iv) केन्द्र् और राज्यों के बीच 90:10 अनुपात में एक - समान वित्त़-पोषण पद्धति।

(v) पांच स्था्पनाओं की बजाय तीन स्थापनाओं (20%, 50% और 30%) में केन्द्रीय सहायता की रिलीज।

(vi) परियोजना अवधि में लचीलापन अर्थात् 4 से 7 वर्ष।

(vii) सूचना प्रौद्योगिकी, दूरसंवेदी तकनीकों, योजना, और निगरानी एवं मूल्यांकन के लिए जीआईएस सुविधाओं का प्रयोग करके परियोजनाओं के शुरू में की वैज्ञानिक योजना बनाना।

(viii) डीपीआर तैयार करने के लिए परियोजना निधियों का निर्धारण करना (1%)।

(ix) वाटरशेड परियोजनाओं के अंतर्गत परियोजना निधियों के निर्धारण सहित नए आजीविका घटक को लागू करना अर्थात् बिना परिसंपत्ति वाले लोगों की आजीविका के लिए परियोजना निधि का 9% तथा उत्पाकद प्रणाली और सूक्ष्मि उद्यमों के लिए 10% निर्धारित करना।

(x) राज्यों को परियोजनाओं की संस्वीकृत शक्तिीयों का प्रत्यायोजन करना।


प्रभागों के संपर्क पते

नीति -अधिसूचना/पत्र

हरियाली परियोजनाएं - वर्ष 2005-06 और 2006-07 के दौरान स्वीकृत परियोजनाओं को बंद करने संबंधी नीतिगत निर्णय, क़िस्तों को क्लब करना (नया) (25 जुलाई, 2011 को अपलोड किया गया)
आईडब्यूमपी परियोजनाओं की पहली किस्त की बकाया 14% केन्द्रीय निधियों की रिलीज के लिए जांच सूची (नया) (13 जुलाई, 2011 को अपलोड किया गया)
एकीकृत वाटरशेड प्रबंधन कार्यक्रम की संचलन समिति के समक्ष प्रस्तावों की प्रस्तुति हेतु प्रपत्र -डीआईजी से पत्र प्रस्तुति के लिए डीआईजी फार्मेट में पत्र - संशोधित (नया) (9 अगस्‍त, 2011 को अपलोड किया गया)।
आईडब्यूएमपी और यूसी फार्मेट के लिए संस्थागत निधि तथा केन्द्रीय निधियों की दूसरी और तीसरी किस्त‍ जारी करने के लिए पद्धति। (7 जुलाई, 2011 को अपलोड किया गया)
आईडब्यूमएमपी के तहत वन क्षेत्रों के शामिल किए जाने के बारे में दिशा - निर्देश (7 जुलाई, 2011 को अपलोड किया गया)
डीओएलआर द्वारा जनवरी 2011 से प्रायोजित इग्नू द्वारा वाटरशेड प्रबंधन में एक वर्षीय डिप्‍लोमा

प्रपत्र - आईडब्यूमएमपी

समझौता-ज्ञापन - एसएलएनए और डीओएलआर प्रपत्र - आईडब्यूमएमपी
वार्षिक कार्य-योजना हेतु प्रपत्र (एएपी) (आप)
प्रारंभिक परियोजना रिपोर्ट (पीपीआर) के लिए प्रपत्र
राज्य परिप्रेक्ष्यक और कार्यनीतिक योजना प्रपत्र एसपीएसपी)
डीपीआर तैयार करने के लिए मॉडल प्रपत्र (डीपीआर)

रिपोर्टें

डीपीएपी और डीडीपी पर हनुमंत राव समिति। सूखा प्रवण क्षेत्र कार्यक्रम और मरुभूमि विकास कार्यक्रम पर तकनीकी समिति की रिपोर्ट (अप्रैल, 1994)
पार्थसारथी रिपोर्ट 'हरियाली से नीरांचल' भारत में वाटरशेड कार्यक्रम संबंधी तकनीकी समिति की रिपोर्ट (जनवरी, 2006)
बंजरभूमि एटलस भारतीय
 

संचलन समिति के कार्यवृत्त


2009-10
2010-11
2011-12

वाटरशेड परियोजनाओं पर सफलता की कहानियां (नया)

आईडबल्यूबएमपी के लिए एमआईएस

http://iwmpmis.nic.in

समीक्षा बैठकें

हैदराबाद, आंध्र प्रदेश में 16 और 17 जून, 2011 को आयोजित आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, केरल और तमिलनाडु में वाटरशेड विकास कार्यक्रमों की प्रगति की समीक्षा पर द्वितीय क्षेत्रीय कार्यशाला के कार्यवृत्तस।

अभिलेखागार

कार्यशालाएं/सम्मेलन/संगोष्ठिपयां

i. एनएएससी परिसर, पूसा, नई दिल्ली् में 28 अक्तूवबर 2010 को आयोजित 'आईडब्यूएमपी के लिए संस्थागत प्रबंधन' पर कार्यशाला की कार्यवाहियां (15 नवंबर 2010 को अपलोड की गईं)।

ii. 20 और 21 मई 2010 को ''समेकित वाटरशेड प्रबंधन कार्यक्रम - 2010-2011 के लिए आयोजना'' पर दो दिवसीय कार्यशाला      
20 और 21 मई, 2010 को कार्यक्रम
20 और 21 मई को आईडब्यूएमपी कार्यशाला की प्रस्तु्तियां  
कार्यशाला की कार्यवाहियां

समीक्षा बैठकें

अधिसूचना पत्र

मुख्य सचिवों को पत्र।
नोडल सचिवों को आंचलिक समीक्षा बैठक के लिए पत्र।
राज्यों के लिए डाउनलोड फार्मेट।
एकीकृत वाटरशेड प्रबंधन कार्यक्रम (आईडब्यूएमपी) के लिए राज्य वार नोडल विभाग (22 सितंबर, 2010 को अपलोड किया गया)
वाटरशेड कार्यक्रम के लिए सुझाए गए वैज्ञानिक उपकरणों की सूची
वाटरशेड विकास निधि खाते के प्रचलन हेतु नियम सभी राज्यों के प्रधान सचिव/सचिव को अपर सचिव का पत्र। वाटरशेड विकास निधि खाते के प्रचलन हेतु नियम सभी राज्यों के प्रधान सचिव/सचिव को अपर सचिव का पत्र।

राज्य

मध्य प्रदेश अंग्रेजी  हिन्दी